छिपाये गए इतिहास से/ ये भी योद्धा थे। फोटो भी लगाया करें

बात 30 अगस्त 1965 की है ड्राइवर कमल नयन मलेरकोटला पंजाब से ट्रक क्रमांक PNR 5317 में 90 बोरी गेहूं लादकर दिल्ली आ रहे थे।
रास्ते में सेना के जवानों ने उनके ट्रक को रोका
और कहा कि पाकिस्तान से जंग छिड़ गई है।
हमें आपके ट्रक और आपकी मदद चाहिए।
कमल जी ने ट्रक में लदीं 90 बोरियां गेहूं
सड़क पर ही उतार दी और ट्रक में गोला-बारूद भरकर
सेना की मदद के लिए बॉर्डर की तरफ चल दिए।
जंग करते हुए वे पाकिस्तान के सियालकोट सेक्टर
पहुंच गए। पाकिस्तानी सैनिकों और तोपों को
छकाते हुए सेना का असलहा लेकर ऐसे गुजरते
मानो जैसे किसी आम रास्ते से गुजर रहे हों।
कई बार तो उन्होंने ट्रक पाकिस्तानी सैनिकों पर
फिल्मी स्टाइल में चढ़ा दिए तो कई बार खुद
गोला-बारूद चलाने लगे।
सरकार ने ट्रक ड्राइवर कमल नयन को सेना के साथ
कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने के अदम्य साहस पर #अशोक_चक्र देकर सम्मानित किया था।
जिसके तहत उन्हें 15 लाख रुपए नगद
और 70 हजार रुपए सालाना देने की घोषणा हुई थी।
हमें ऐसे बजुर्गों पे गर्व है और ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये ताकि सबको ऐसे योद्धा के बारे में पता चल सके।
जय हिंद..

Leave a Reply